Home Business Ola कैसे पैसे कमाता है। Ola Business Model In Hindi

Ola कैसे पैसे कमाता है। Ola Business Model In Hindi

ओला कैसे पैसे कमाता है। Best Ola Business Model

दोस्तों अगर आज हम  इस लेख में ओला कैसे पैसे कमाता है, Ola Business Model और Ola की सफलता की कहानी के बारे में जानेंगे। ओला कैब एक इंडियन राइड शेयरिंग कंपनी है जो कई तरह की सर्विसेज प्रोवाइड करती है जिनमें peer-to-peer Ride sharing , टैक्सी और फ़ूड Delivery  शामिल हैं। कंपनी का हेडक्वार्टर ऑफिस बैंगलोर, कर्नाटक, भारत में अस्थापित है । जाब हम कहीं बाहर जाने का मन बनाते है तो Ola के पास जाने का ख्याल आता है। इसका कारण यह है कि Ola ने कम लागत में लोगों के लिए बेहतर परिवहन व्यवस्था की। और अब Ola ने लोगों के लिए आराम से यात्रा करना एक आदत बना दी है कि आज भारत में अधिकांश लोग Ola से यात्रा करते हैं।

कंपनी – Ola

प्रधान कार्यालय – बैंगलोर (भारत)

संस्थापक – भाविश अग्रवाल, अंकित भाटी

स्थापित – दिसंबर 2010

राजस्व – 2544 करोड़ (2019 तक)

मूल कंपनी – एएनआई टेक्नोलॉजीज प्रा। लिमिटेड

वेबसाइट – olacabs.com

OLA का मालिक कौन है?

Ola की मूल कंपनी ANI Technologies Pvt. Ltd. है। लिमिटेड ओला एक ऑनलाइन ट्रांसपोर्ट नेटवर्क कंपनी है। ओला को 3 दिसंबर 2010 को मुंबई में लॉन्च किया गया था। Ola कंपनी की शुरुआत भाविश अग्रवाल और अंकित भाटी ने की थी। शुरुआत में उन्होंने एक ट्रैवल एजेंसी शुरू की। बाद में उन्होंने ओला कैब शुरू की।

Ola की सफलता की कहानी:-

Ola Cab  शुरू करने का विचार भाविश और अंकित के मन में कैसे आया इसके पीछे भी एक कहानी है। हुआ यूं कि Ola के को-फाउंडर भाविश अग्रवाल एक बार बेंगलुरु से बांदीपुर की यात्रा करने जा रहे थे। इसके लिए उन्होंने टैक्सी बुक की थी। उसने टैक्सी ड्राइवर के साथ यह भी तय किया कि बांदीपुर के लिए कितने पैसे होंगे। बाद में बांदीपुर जाते समय टैक्सी चालक ने अचानक टैक्सी रोक दी। और भाविश से तय कीमत से ज्यादा पैसे की मांग की। तो भाविश को गुस्सा आ गया और वह टैक्सी से उतर गया और टैक्सी वाले को जाने के लिए कह दिया। इस घटना से भाविश बहुत गुस्से में था। और उन्हों ने किसी तरह अपना सफर पुरा किया ।

यह वह अवसर था जिसने भाविश को Ola Cab शुरू करने के लिए प्रेरित किया। भाविश को इसमें कुछ बड़ा करने का मौका भी नजर आया। उन्होंने यात्रा के दौरान ड्राइवर द्वारा यात्रियों के पैसे की धोखाधड़ी और धोखाधड़ी की समस्या को भी महसूस किया और इसके समाधान के रूप में Ola Cab शुरू की।

Ola Cab की शुरुआत :-

Ola Cab मुख्य रूप से ग्राहकों को परिवहन सेवाएं प्रदान करती है। जब Ola के को-फाउंडर भाविश अग्रवाल Ola  Cab  शुरू करने की सोच रहे थे। तब उनके सामने सिर्फ 3 लाख थे। पहला फोकस ड्राइवर की मनमानी, अराजक कीमतों और वाहनों की सीमित उपलब्धता में सुधार करना था । दूसरा फोकस लोगों को सस्ती और अच्छी तरह से सुविधाजनक परिवहन सेवाएं प्रदान करना । और तीसरा लक्ष्य लोगों को यात्रा करने में सहूलियत देकर और ड्राइवर की मनमानी को खत्म करके अपने व्यवसाय को बहुत बड़ा बनाना है। मजेदार बात यह है कि भाविश अग्रवाल के पास अपनी एक भी कार नहीं है।

भाविश ने शुरुआत में ग्राहकों को ग्राहक आधार बनाने के साथ-साथ जरूरत के लिए बहुत कम दरों पर Ola  Cab  की पेशकश शुरू की। साथ ही रेफर एंड अर्न स्कीम, डिस्काउंट जैसी विभिन्न योजनाएं देना शुरू किया। इससे कई यात्रियों ने Ola Cab  में सफर का लुत्फ उठाया। ओला कई  वर्षों से यात्रियों को कम लागत वाली परिवहन सेवाएं प्रदान कर रही है। साथ ही Ola Cab  ड्राइवर को अच्छा इंसेंटिव दिया। इन सबके लिए उन्होंने निवेशकों से पैसे जुटाए।

भाविश अग्रवाल ने बड़े लक्ष्य के साथ ओला कैब सर्विस की शुरुआत की। Ola, जिसने शुरू में यात्रियों को बहुत अधिक छूट और ड्राइवरों को बहुत सारे प्रोत्साहन की पेशकश की, धीरे-धीरे यात्री किराए में वृद्धि की। उन्हों ने चालक के प्रोत्साहन को कम करके चालक से वसूले जाने वाले कमीशन में भी वृद्धि की। क्योंकि अब ओला बाजार में अच्छी तरह से स्थापित है। परिवहन क्षेत्र में ओला की 57% बाजार हिस्सेदारी है। तो उबेर के पास 39% है। शुरुआत में ओला कंपनी अपने ड्राइवर को 80% इंसेंटिव देती थी। और अब 20% का भुगतान करता है। इसके विपरीत, ड्राइवर 5% कमीशन लेता था और अब वह सीधे 25% कमीशन लेता है। यानी ओला अब ड्राइवर से ज्यादा कमीशन लेती है। और उन्हें कम प्रोत्साहन देता है।

साथ ही ओला अब अन्य व्यवसायों में भी निवेश कर रही है। ओला ने शुरू की ओला मनी। इसने एक ऑनलाइन फूड डिलीवरी कंपनी फूडपांडा को भी खरीदा।

ओला बिजनेस मॉडल:-

Ola  बिजनेस मॉडल एक ऑनलाइन कैब एग्रीगेटर है। मेरा मतलब है, ओला कंपनी अपने आप कुछ नहीं करती है। कंपनी के पास खुद के वाहन भी नहीं हैं। कोई खुद का ड्राइवर नहीं है। उनके पास जो प्रमुख उपकरण है वह वह तकनीक है जिसके साथ ओला आज करोड़ों का कारोबार कर रही है। ओला कंपनी बाहरी ड्राइवर के साथ पार्टनरशिप करती है। और इसे आपके सिस्टम में लाता है। ऐसा करके ओला ने हर शहर में कई ड्राइवरों की टीम बनाई है। Ola का अपना मोबाइल एप्लिकेशन भी है। ओला, सुरक्षित और किफायती सवारी जिसके साथ यात्री अपना स्थान चुनते हैं और कार बुक करते हैं। और उनका साथी ड्राइवर, जो यात्री की लोकेशन के करीब होता है, ग्राहक को लेने जाता है।

यह भी पढ़ें :   5G क्या है ? और 1g, 2g … 3g … 4g … 5g में क्या अंतर है?

Ola के बिजनेस मॉडल में अहम भूमिका निभाने वाला ड्राइवर इसलिए है क्योंकि Ola कंपनी सिर्फ उनकी टेक्नोलॉजी और मैनेजमेंट को मैनेज करती है। लेकिन उसके साथी ड्राइवर को अपनी कार, ईंधन, रखरखाव के साथ-साथ कार बीमा का भी ध्यान रखना होता है और साथ ही अपने ड्राइविंग वेतन और सबसे महत्वपूर्ण यात्री का भी ध्यान रखना होता है। संक्षेप में कहें तो उनका पार्टनर ड्राइवर एक तरह से Ola का प्रतिनिधि है।

इस तरह Ola कंपनी बड़े पैमाने पर अपने कारोबार का विस्तार कर रही है। 2018 तक, Ola ने 169 शहरों में 15 लाख  से अधिक वाहनों का नेटवर्क बनाया है। ओला ने अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी कदम रखा है। ओला ने जनवरी 2018 में ऑस्ट्रेलिया में अपनी सेवा शुरू की थी। और सितंबर 2018 में न्यूजीलैंड और यूके में लॉन्च किया गया।


अगर आपको Ola Business Model और ओला की सफलता की कहानी के बारे में यह जानकारी अच्छी लागी है, तो कृपया comment करें और इस जानकारी को अधिक से अधिक लोगों के साथ Share करें।


RELATED ARTICLES

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

href="https://www.thegoldenmart.com/classified">which is the best electric car in india 2021 on पेपर प्लेट बनाने का बिजनेस कैसे शुरु करें।