Home Health जेनेरिक दवाएं क्या हैं? Generic dawayen kya hain?

जेनेरिक दवाएं क्या हैं? Generic dawayen kya hain?

जेनेरिक दवाएं क्या हैं?

आज के लेख में हम जानेंगे जेनेरिक दवाएं क्या हैं ? जेनेरिक और पेटेंट दवे में क्या अंतर है ? इस लेख में  जेनेरिक दवा की आवश्यकता  के बारे में जानकारी दी गई है।

जेनेरिक दवाएं दरअसल, महंगी और ब्रांडेड दवाओं का सस्ता विकल्प हैं। इनका इस्तेमाल, असर और साइड इफेक्ट्स सब कुछ ब्रांडेड दवाओं जैसा ही होता है।

इनका कंपोज़िशन भी वही होता है। ये बहुत सस्ती इसलिए होती हैं क्योंकि इनके निर्माण और मार्केटिंग पर बड़ी कंपनियों और बड़े ब्रांड की तरह बेहिसाब पैसे ख़र्च नहीं किए जाते।

हमारे देश में बढ़ती महंगाई और कम आमदनी के कारण बहुत से लोग अपना इलाज खुद नहीं करवा पा रहे हैं। एक सामान्य व्यक्ति के लिए अपने और अपने परिवार के सदस्यों के लिए महंगी दवाएं और सर्जरी का खर्च वहन करना मुश्किल होता है। कुछ लोग दवाओं की कीमत से डर जाते हैं और समय पर उनका इलाज नहीं करते हैं। देश के गरीब लोगों की इन्हीं समस्याओं को ध्यान में रखते हुए सरकार ने एक नई योजना शुरू की है। इस योजना के तहत कोई भी व्यक्ति बिना महंगी दवा खरीदे कम कीमत पर अपना इलाज करा सकता है।

जेनेरिक का मतलब क्या है?

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना के तहत गरीब और मध्यम वर्ग के परिवारों के लिए जेनेरिक दवाएं शुरू की गई हैं। इस योजना के तहत लोगों को कम कीमत पर दवाएं उपलब्ध कराई जाती हैं। इन दवाओं की खरीद के लिए हर कस्बे और गांव में एक ‘जन औषधि केंद्र‘ स्थापित किया गया है। जेनेरिक दवाएं ब्रांडेड एलोपैथी दवाओं की तुलना में काफी कम कीमत पर उपलब्ध हैं, और वे उतनी ही प्रभावी हैं। जेनेरिक दवाएं बिना पेटेंट के बनती हैं इसलिए इनकी कीमत भी आधी से भी कम होती है।

जेनेरिक दवाएं सस्ती हैं क्योंकि उनके निर्माता कंपनी के विकास और प्रचार पर अधिक खर्च नहीं करते हैं। लेकिन दूसरी ओर, ब्रांडेड कंपनियां अधिक लाभ कमाने के लिए अपने प्रचार पर अधिक खर्च करती हैं। जिससे उनकी दवाएं महंगी हो जाती हैं। इसके अलावा जेनेरिक दवाओं की कीमत तय करने का अधिकार सरकार के पास है। ताकि कोई उनकी वैल्यू न बढ़ा सके।

आज हमारे देश में मध्यम वर्ग और गरीब लोग महंगी दवाएं नहीं खरीद पा रहे हैं। ऐसे में जेनेरिक दवाएं उनके लिए वरदान साबित हुई हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के डॉक्टरों ने दुनिया भर के डॉक्टरों को सलाह दी है कि वे अपने नुस्खे का 70% सामान्य रूप से लिखें।

जेनेरिक दवाएं क्यों आप पसंद करते हैं चाहिए?

हमें जेनेरिक दवाओं के उपयोग और उनके प्रचार पर भी ध्यान देना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि जेनेरिक दवाएं पांच गुना कम कीमत पर उपलब्ध हैं और ब्रांडेड दवाओं की तरह ही प्रभावी हैं। देश में जेनेरिक दवाओं की अधिकतम उपलब्धता नागरिकों को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण योगदान देगी।

ब्राजील और फ्रांस जैसे देशों में 20 फीसदी से ज्यादा जेनेरिक दवाएं बिकती हैं। यदि हम अपने देश में जेनेरिक दवाओं की बिक्री भी बढ़ाते हैं, तो शेष बड़ी राशि देश की प्रगति और विकास में निवेश की जा सकती है। इसलिए कम पैसे में बेहतर सेहत पाने के लिए आज जेनरिक दवाओं की बहुत जरूरत है।

तो दोस्तों इस लेख में हमें जेनेरिक दवा  की आवश्यकता के बारे में हिंदी जानकारी मिली। इस जानकारी को अपने दोस्तों और परिवार के साथ साझा करके उन्हें इसके बारे में जागरूक करें। धन्यवाद ..


यह भी पढ़ें : 

कैलोरी क्या हैं? What is calorie in hindi

01
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

href="https://www.thegoldenmart.com/classified">which is the best electric car in india 2021 on पेपर प्लेट बनाने का बिजनेस कैसे शुरु करें।