Home Health सौंफ खाने के फायदे - Saunf khane ke fayde ।

सौंफ खाने के फायदे – Saunf khane ke fayde ।

Table of Contents

सौंफ खाने के फायदे – Saunf khane ke fayde।

हेल्थ डेस्क : दोस्तों आज के लेख में हम जानने वाले हैं सौंफ खाने के फायदे के बारे में , सौंफ खाने से गैस की समस्या नहीं होती है , सोंफ खाने से पाचन तंत्र ठीक से काम करता है, जब सोंफ खाने के बाद खाते हैं तो पाचन आसान हो जाता है, पेट में भारीपन नहीं होने देती है इसलिए सोंफ को खाना खाने के बाद ज़रूर इस्तेमाल करना चाहिए।

एलो वेरा के फायदे/Aloe Vera – Health Benefits

सौंफ खाने के फायदे – Saunf khane ke फायदे ।

सोंफ खाने के बाद एक चम्मच लें या फिर आधा चम्मच सोंफ का चूरन रात को सोते वक़्त दूध के साथ ले सकते हैं , सोंफ को शहद के साथ मिलकर खाने से कफ में फ़ायदा होता है । जिनको क़ब्ज़ की समस्या हो वह सोंफ ज़रूर इस्तेमाल करें क्यूंकि सोंफ में भरपूर मात्रा में फाइबर होता है और यह पाचन को बेहतर बनता है लगातार सोंफ का पानी इस्तेमाल करने से गैस की परेशानी दूर हो जाती है और कब्ज में भी राहत मिलती है । पेट दर्द, पाचन, आंखों की रोशनी, कमजोर दिमाग और पाचन शक्ति के लिए सौंफ बहुत उपयोगी है

सौंफ खाने के फायदे – Health Benefits Of Fennel Seeds

सौंफ का उपयोग करके गर्मी की तीव्रता कम करें।  गर्मी को प्रभावी ढंग से हराने के लिए गर्म मौसम में स्वस्थ आहार खाना महत्वपूर्ण है। बहुत सारे पानी और पेय पदार्थ पीने के अलावा, आपको अपने आहार में उन चीजों को शामिल करना चाहिए जो आपके शरीर को आंतरिक रूप से ठंडा रख सकते हैं। सौंफ  भारत, पाकिस्तान, श्री लंका, बांग्लादेश, जापान, हांगकांग और यूरोप में पाई जाती है। सौंफ का अर्क और तेल निकाला जाता है। यह प्राचीन यूनानियों द्वारा व्यापक रूप से उपयोग किया जाता था। प्रसिद्ध यूनानी दवा सिरप सौंफ के बीज और इसकी जड़ों से बना था।  यह भी पढ़ें : सूखे आलूबुखारा के फायदे। 

  • सौंफ के नियमित सेवन से गुर्दे और मूत्राशय में पथरी नहीं होती है और यदि पहले से ही पथरी है तो इसके प्रयोग से पथरी दूर हो जाती है।

सौंफ खाने के फायदे – Saunf khane ke फायदे ।

  • सौंफ महिलाओं के लिए बहुत उपयोगी होती है क्योंकि इसमें एस्ट्रोजन नाम का हार्मोन होता है जो महिलाओं के लिए काफी असरदार होता है।
  • सौंफ स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए भी उपयोगी होती है इसके सेवन से दूध की मात्रा बढ़ जाती है मुलेठी में भी सौंफ का अर्क लाभकारी होता है। यह मासिक धर्म की नियमितता को भी खत्म करता है। सौंफ के तेल का इस्तेमाल करने से मोटापे से ग्रस्त महिलाएं मोटापा कम कर सकती हैं । यह भी पढ़ें , गाजर खाने के फायदे । 

सौंफ को स्टार ऐनीज भी कहा जाता है।

सोंफ ज्यादातर पान में खाया जाता है। पेट दर्द, पाचन, आंखों की रोशनी, कमजोर दिमाग और पाचन शक्ति के लिए सौंफ बहुत उपयोगी है। सौंफ, जिसे आम लोग बहुत ही तुच्छ चीज मानते हैं, के अंदर महान पोषण मूल्य छिपा होता है।

सौंफ के रासायनिक विश्लेषण से पता चलता है कि 100 ग्राम सौंफ में 6% नमी, 10% प्रोटीन, 10% वसा और 25% कार्बोहाइड्रेट होता है। इनमें फास्फोरस, कैल्शियम, स्टील, सोडियम, पोटेशियम, राइबोफ्लेविन, नियासिन और विटामिन सी शामिल हैं। सौंफ की सबसे खास बात यह है कि 100 ग्राम सौंफ में 370 कैलोरी होती है।

सौंफ खाने  के कई स्वास्थ्य लाभ हैं।

सौंफ मस्तिष्क को स्वस्थ, स्फूर्तिदायक और पोषण देने वाली है। सौंफ अपच, कब्ज, खांसी, मस्तिष्क की कमजोरी, सांसों की दुर्गंध और जठरांत्र संबंधी रोगों को ठीक कर सकती है। इस लेख को पढ़कर आप निश्चित रूप से सौंफ को अपने घर में रखेंगे और अपने दैनिक जीवन में इसका उपयोग सुनिश्चित करेंगे। 

सौंफ खाने के फायदे – Health Benefits Of Fennel Seeds

  • सौंफ के पौधे की पत्तियां पाचक, भूख बढ़ाने वाली और उत्तेजक होती हैं और इनका स्वाद सुखद होता है। सौंफ के पत्ते नमी को बढ़ाते हैं इसलिए इसके इस्तेमाल से पेशाब की मात्रा बढ़ जाती है।
  • सेक्स पावर बढ़ने  और रक्तस्राव को रोकने में भी सौंफ बहुत कारगर है।
  • इसके सेवन से पेट की गैस निकलती है, बलगम का उत्सर्जन बढ़ता है और वायु मार्ग साफ होता है।
  • सौंफ को विभिन्न औषधियों में शामिल किया जाता है, विशेषकर जठरांत्र संबंधी रोगों के उपचार में। अंजीर के फायदे ।  
  • सौंफ का सेवन पाचन तंत्र के लिए बहुत फायदेमंद होता है। छोटे बच्चों को कम मात्रा में देने से कार्बोहाइड्रेट पचाने में मदद मिलती है।
  • सौंफ मानसिक कमजोरी, उनींदापन, अपच, कब्ज, खांसी और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रोगों के इलाज के लिए एक गारंटीकृत नुस्खा है, जिसका उपयोग आप घर पर ही इन बीमारियों से आसानी से छुटकारा पाने के लिए कर सकते हैं।

सौंफ की तासीर ठंडी या गर्म ?

हमारी रसोई में कई सामग्रियां हैं जो स्वाभाविक रूप से हमारे शरीर पर ठंडक का  प्रभाव डाल सकती हैं, उनमें से एक सौंफ़ है। सौंफ़ का एक अनूठा स्वाद है जो आपको कई अन्य स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकता है। सौंफ  की तासीर ठंडी है, सोच रहे होंगे कि इन छोटे बीजों को अपने आहार में कैसे शामिल करें। कुछ अनोखे तरीके जानने के लिए यहां पढ़ें। 

उनींदापन दूर करने के लिए सौंफ का प्रयोग करें ।

अत्यधिक नींद यानि हर समय सुस्ती और सुस्ती से छुटकारा पाने के लिए भी सौंफ बेहतरीन है। आधा लीटर पानी में 6 मुट्ठी सौंफ उबाल लें। जब आधा पानी रह जाए तो उसमें नमक मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें यह उनींदापन और सुस्ती को दूर करने के लिए एक बेहतरीन नुस्खा है।

पेट दर्द से राहत पाने के लिए करें सौंफ का इस्तेमाल ।

12 ग्राम सौंफ, 12 ग्राम अजवाइन, 6 ग्राम काला नमक को बारीक पीसकर भोजन के बाद सेवन करें। पेट दर्द में यह बहुत उपयोगी होता है इससे पेट ठीक हो जाएगा और खाना जल्दी पच जाएगा।

सिरदर्द दूर करने के लिए करें सौंफ का प्रयोग ।

आधा गिलास पानी में एक ग्राम सौंफ मिलाकर उसमें चीनी मिलाकर अच्छी तरह हिलाएं, यह सिर दर्द से राहत दिलाने के लिए बहुत ही उपयोगी नुस्खा है।

12 ग्राम सौंफ, 12 ग्राम इलायची, 6 ग्राम पुदीना को लेकर बारीक पीस लें। नाराज़गी, पेट की गैस और भोजन के त्वरित पाचन में बहुत उपयोगी है।

सर्दी-जुकाम को दूर करने के लिए करें सौंफ का इस्तेमाल

सौंफ के साथ एक तौलिया लपेटकर आधा किलो पानी में भिगो दें और 3 घंटे बाद उबाल लें। आधा पौंड पानी रह जाए तो चीनी मिलाकर पीने से सर्दी-जुकाम से छुटकारा मिल सकता है, लौंग भी मिला दी जाए तो यह और भी उपयोगी होती है।

सौंफ के  नुक्सान । 

  • वैसे तो सौंफ का इस्तेमाल और इसकी तासीर ठंडी और फायदेमंद हैं लेकिंग कहीं कहीं इसका इस्तेमाल नुकसान हो सकता है ,  जैसे महिलाओं को सौंफ का सेवन नहीं करना चाहिए। दो साल से कम उम्र के बच्चों पर सौंफ के तेल का प्रयोग न करें। मिर्गी के मरीजों को भी सौंफ के सेवन से बचना चाहिए।

यह भी पढ़ें :  स्ट्रॉबेरी के अद्भुत और स्वस्थ लाभ

सौंफ की चाय कब पीनी चाहिए?

 सौंफ की चाय: अगर आप चाय के शौकीन हैं, तो सौंफ की चाय खाने के बाद ट्राई करें यह सबसे अच्छा समय होता है । यह आपके पाचन को बेहतर बनाने और हार्मोन को विनियमित करने में मदद करेगा, आप अपनी दैनिक चाय को इस लाभकारी और स्वादिष्ट चाय से बदल सकते हैं। आप सोंफ की चाय को दिन में 2-3 बार से ज़्यादा इस्तेमाल न करें ।

सोंफ  को सदियों से मिस फ्रेशनर कहा जाता है। सौंफ खाने का सही तरीका यह है की आप खाने के बाद सौंफ चबा सकते हैं। यह पाचन तंत्र को बढ़ावा देगा और आपको तरोताजा महसूस कराएगा, यह आपको गैस और मतली जैसी समस्याये भी नहीं होंगी।।

विभिन्न खानों में सौंफ का उपयोग:

आप विभिन्न खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों में सौंफ पाउडर भी मिला सकते हैं। गर्मी  की प्रसिद्ध ठंडाई  को बनाने  के लिए दूध में सौंफ पाउडर मिलाया जा सकता है। आप इसके स्वाद को बढ़ाने के लिए किसी भी मीठे व्यंजन में सौंफ पाउडर मिला सकते हैं।

सौंफ का पानी:

जीरा  पानी की तरह आप सौंफ का पानी भी तैयार कर सकते हैं। यह गैस की समस्याओं को कम करेगा और आपके पाचन को स्वस्थ रखेगा। आप अपने दिन की शुरुआत अपने संपूर्ण स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए सौंफ के पानी से कर सकते हैं। इस गर्मी में, अपने आहार में इस शीतलन तत्व को शामिल करें।

यदि आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो ज़ोर शेयर करें ताकि दूसरे लोग भी लाभ उठा सकें । 

यह भी पढ़ें :

सेहत कैसे बनाएं घरेलू उपाय/Health Tips

01

Fennel Seeds For Health:

GPS क्या है? यह कैसे काम करता है?

5G क्या है ? और 1g, 2g … 3g … 4g … 5g में क्या अंतर है?

Mexican Vegetable Rice Recipe in Hindi

स्ट्रॉबेरी के अद्भुत और स्वस्थ लाभ

RELATED ARTICLES

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

href="https://www.thegoldenmart.com/classified">which is the best electric car in india 2021 on पेपर प्लेट बनाने का बिजनेस कैसे शुरु करें।