Home Digital Marketing गूगल वर्चुअल विजिटिंग कार्ड क्या है - Google Virtual Visiting Card

गूगल वर्चुअल विजिटिंग कार्ड क्या है – Google Virtual Visiting Card

गूगल वर्चुअल विजिटिंग कार्ड क्या है – Google Virtual Visiting Card

गूगल वर्चुअल विजिटिंग कार्ड क्या है – Google Virtual Visiting कार्ड : आजकल पहचान बड़ी बात  है। आपके पास जितने अधिक contacts  होंगे, आपको अपनी गुणवत्ता व्यक्त करने का उतना ही अधिक अवसर मिलेगा। इसलिए परिचय देना भी उतना ही जरूरी है। जान-पहचान बढ़ाना भी बहुत जरूरी है।

इसलिए न केवल व्यवसायी या गणमान्य व्यक्ति बल्कि आप जैसे युवा भी इन दिनों अपने contacts  को बढ़ाने के लिए विजिटिंग कार्ड का उपयोग करते हैं। अब  विजिटिंग कार्ड ऑनलाइन हो गया है । 

आपने किसी तरह विजिटिंग कार्ड की सॉफ्ट कॉपी रखी है और इसलिए आप इसे किसी नए परिचित के साथ साझा कर रहे हैं, ऐसा नहीं है। Google ने विज़िटिंग कार्ड का अनावरण कर दिया है । यह सेवा भारत में शुरू की गई है। इसे ‘पीपल कार्ड’ नाम दिया गया है।

कोरोना महामारी  और लॉकडाउन के बीच यूजर्स की सुविधा के लिए गूगल ने कई नए फीचर पेश किए हैं। इस सर्च इंजन ने लोकेशन शेयरिंग फीचर को अपग्रेड करके आम जनता को कोरोना वायरस (COVID-19) के बारे में जागरूक किया है। इस बार इस प्लेटफॉर्म में एक और दिलचस्प फीचर जोड़ा गया है। अब से Google आपका वर्चुअल विजिटिंग कार्ड भी बनाएगा ।

गूगल वर्चुअल विजिटिंग कार्ड क्या है – Google Virtual Visiting Card

  • इस संबंध में गूगल के प्रोडक्ट मैनेजर लॉरेन किर्क ने कहा कि Google People Cards  का परीक्षण भारत में पहले ही किया जा चुका है। 
  • स्मार्टफोन यूजर्स ये People Cards  बना सकते हैं। वहां आप फोन नंबर, ईमेल आईडी, वेबसाइट एड्रेस, घर का पता समेत तमाम जानकारियां दे सकते हैं। फिर अगर कोई गूगल सर्च इंजन में जाकर आपका नाम सर्च करता है तो वह People Card  सारी जानकारी शेयर कर देगा।
  • आप चाहें तो People Card  को अपनी इच्छानुसार एडिट कर सकते हैं। हालांकि, लोग केवल एक ही कार्ड रख सकते हैं। Google इसे सहेज लेगा। अगर कोई डुप्लीकेट बनाना चाहता है तो यह संभव नहीं है।
  • क्योंकि फ़ोन नंबर, ईमेल, वेबसाइट के पते सभी Google द्वारा सत्यापित किए जाएंगे। अगर आपको लगता है कि आप गोपनीयता बनाए रखने के लिए विजिटिंग कार्ड नहीं चाहते हैं। फिर मत करें ।
  • हालांकि 130 करोड़ के देश में कई लोगों का एक ही नाम हो सकता है। गलती करने की कोई संभावना नहीं है, क्योंकि आपको चित्रों का उपयोग करना होगा। और अगर नाम मेल खाता है, तो भी इस बात की कोई संभावना नहीं है कि लुक मैच हो जाए।

गूगल वर्चुअल विजिटिंग कार्ड क्या है – Google Virtual Visiting Card

कोरोना के दौर  में हाथों-हाथ विजिटिंग कार्ड से लेन-देन का चलन काम हुआ है।  और इसे ध्यान में रखते हुए, Google ने ज़िन्दगी को आसान बना दिया। ‘People Card  ‘ फीचर से यूजर्स गूगल से अपना खुद का Visiting  card  बना सकते हैं। आप दूसरों को अपनी प्रोफ़ाइल के बारे में बता सकते हैं। नतीजतन, Google पर किसी को भी ढूंढना आसान हो जाएगा।

क्या है  इस वर्चुअल विजिटिंग कार्ड में?

Google के अनुसार, व्यक्ति की वेबसाइट या सामाजिक प्रोफ़ाइल ऑनलाइन में पाई जा सकती है। दूसरे शब्दों में, फेसबुक, इंस्टाग्राम या अन्य सोशल साइट्स पर उसका नाम क्या है। साथ ही यह भी पता चलेगा कि वह व्यक्ति किस पेशे से जुड़ा है।

यह उन लोगों के लिए भी मार्ग प्रशस्त करेगा जो निजी व्यवसाय करते हैं या दूसरों तक पहुंचने के लिए स्वतंत्र हैं। बहुत सारी प्रतिभाओं को खोजना भी आसान होगा। हालांकि, इस मामले में कई फर्जी प्रोफाइल भी बनाई जा सकती हैं। उसके लिए विशेष रूप से जानकारी की जांच करने का काम Google करेगा।

कोई एक ही कार्ड बना सकता है। अगले नए कार्ड के लिए सही मोबाइल नंबर मांगा जाएगा। उपयोगकर्ता अपनी इच्छानुसार वर्चुअल विजिटिंग कार्ड को हटा भी सकते हैं।

आपको अपनी सिक्योरिटी को लेकर कोई  खतरा महसूस होता है तो आप किसी भी समय अपनी details  को delete  कर सकते हैं, गूगल ने यह सहूलत दी है आम जनता के लिए की उसे लगता है की कोई गलत use  करेगा तो तुरंत आप इसे गूगल से हटा सकते हैं। 

अगर कोई संबंधित यूजर गूगल को अपने बारे में जानकारी देना चाहता है तो यह People  Card  काम आ सकता है। इससे आप अपना फोन नंबर, वेबसाइट, ईमेल आईडी और कई अन्य जानकारियां गूगल पर सबके साथ साझा कर सकते हैं।

यदि कोई आपका नाम लिखकर Google पर Search  करता है, तो यह जानकारी खोज परिणामों में दिखाई देगी. आप जो जानकारी देते हैं उसे आप नियंत्रित करते हैं। आप चाहें तो बाद में यूजर इस वर्चुअल विजिटिंग कार्ड की जानकारी छुपा भी सकेगा।

गूगल के मुताबिक फिलहाल सिर्फ स्मार्टफोन यूजर्स ही इस फीचर का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसका मतलब है कि लैपटॉप या डेस्कटॉप कंप्यूटर से पीपल कार्ड का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।

वर्चुअल विजिटिंग कार्ड कैसे बनाया जाता है?

  1. पहले अपने Google Account  में साइन इन करें।
  2. अब गूगल पर अपना नाम खोजें।
  3. सर्च करें  “add me to Search”और इसे ओपन करें ।
  4. वहां गूगल अकाउंट से अपनी तस्वीर डालें।
  5. अब अपनी पहचान लिखें। अपनी इच्छानुसार social account  के लिंक जोड़ें। आप चाहें तो मोबाइल नंबर या ई-मेल दे सकते हैं। बस, आपका वर्चुअल विजिटिंग कार्ड बन कर तैयार है ।
  6. कार्ड बनाने के बाद, आप चित्र (वैकल्पिक) चुन सकते हैं, विवरण लिख सकते हैं, वेबसाइट से लिंक कर सकते हैं और सोशल मीडिया पर जानकारी दे सकते हैं। फोन नंबर और ईमेल आईडी भी दिया जा सकता है।  यह भी पढ़ें : ईमेल मार्केटिंग किया है/What is Email Marketing

Google ने इस वर्चुअल कार्ड के डेटा की सुरक्षा के लिए कई कदम उठाए हैं। एक उपयोगकर्ता उसी पीपल कार्ड का उपयोग कर सकता है। Google वैधता verify  करने के लिए संबंधित उपयोगकर्ता के Google खाते और फ़ोन नंबर को verify  करेगा। उपयोगकर्ता अपनी इच्छानुसार Google पीपल कार्ड से डेटा हटा या जोड़ भी सकते हैं। एक प्रतिक्रिया विकल्प भी है। जिसके माध्यम से उपयोगकर्ता कार्ड से संबंधित emergency communication  कर सकता है।

यह भी पढ़ें  : Affiliate Marketing क्या है/What Is Affiliate Marketing

तो दोस्तों उम्मीद है कि  वर्चुअल बिजनेस कार्ड क्या है? इस से आपके नॉलेज में जरूर इज़ाफ़ा  हुआ होगा। तो अगर आपको यह जानकारी अच्छी  लगी हो तो  इसे  सोशल मीडिया पर अपने लोगों के साथ शेयर करें और फिर आपका कोई सवाल हो तो  Comment में अवश्य बतायें।

हर तरह की अच्छी  जानकारी पाने लिए  हमारे  facebook  पेज को लाइक करें आप हमारे facebook  पेज को Like एंड  Share   करने के लिए यहाँ क्लिक करें.

01
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

href="https://www.thegoldenmart.com/classified">which is the best electric car in india 2021 on पेपर प्लेट बनाने का बिजनेस कैसे शुरु करें।