Home Biography in Hindi रवीन्द्रनाथ टैगोर पर निबंध। Rabindranath Tagore essay in hindi 

रवीन्द्रनाथ टैगोर पर निबंध। Rabindranath Tagore essay in hindi 

रवीन्द्रनाथ  टैगोर पर निबंध । Rabindranath Tagore essay in hindi 

जन्म 7 मई 1861 को कोलकाता में  7 अगस्त 1941 को कोलकाता में 

रवीन्द्रनाथ  टैगोर पर निबंध । आज हम रवींद्रनाथ टैगोर हिंदी जानकारी प्राप्त करने जा रहे हैं।  भारतीय साहित्य में विश्व प्रसिद्ध कवि, लेखक, दार्शनिक और नोबेल पुरस्कार विजेता रवींद्रनाथ टैगोर को ‘गुरुदेव’ के नाम से भी जाना जाता है। उन्होंने भारत का राष्ट्रगान ‘जन गण मन’ और बांग्लादेश का राष्ट्रगान ‘अमर सोनार बांग्ला’ लिखा। आज के लेख में हम रवींद्रनाथ टैगोर हिंदी जानकारी प्राप्त करने जा रहे हैं। तो चलो शुरू हो जाओ।

आज हम इस निबंध में इन चीज़ों को कवर करेंगे ।

  1. रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म कब हुआ था
  2. रवींद्रनाथ टैगोर का प्रारंभिक जीवन
  3. रवींद्रनाथ टैगोर की शिक्षा
  4. रवींद्रनाथ टैगोर की  शादी
  5. रवींद्रनाथ टैगोर की व्यवसाय
  6. साहित्य में रवींद्रनाथ टैगोर का काम
  7. रवीन्द्रनाथ टैगोर का भारतीय कला में योगदान
  8. रवीन्द्रनाथ टैगोर को नोबेल पुरस्कार कब मिला
  9. बांग्लादेश का राष्ट्रीय गान कौन सा है?
  10. रवींद्रनाथ टैगोर की मृत्यु
  11. रवींद्रनाथ टैगोर की उपलब्धता
  • रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म

रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म 7 मई 1861 को कोलकाता के जोदसाको ठाकुरवाड़ी गांव में एक प्रसिद्ध बंगाली परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम देवेंद्रनाथ टैगोर और माता का नाम शारदाबाई था। वह अपने माता-पिता की 13 संतानों में सबसे छोटे थे। जब वह छोटा था तब उसकी माँ की मृत्यु हो गई। देवेंद्रनाथ टैगोर ब्रह्म समाज के एक वरिष्ठ नेता और उनके परिसर के प्रमुख थे। उन्हें हमेशा अपने काम के लिए यात्रा करनी पड़ती थी। ताकि छोटे रवींद्रनाथ टैगोर को उनके नौकरों ने पाला।

  • रवींद्रनाथ टैगोर की शिक्षा

टैगोर बचपन से ही बुद्धिमान थे, पढ़ाई में रुचि रखते थे। उनकी शिक्षा सेंट जेवियर्स स्कूल, कोलकाता में हुई। टैगोर के पिता चाहते थे कि वह बैरिस्टर बने। लेकिन रवींद्रनाथ टैगोर को साहित्य का शौक था। 1878 में, बैरिस्टर की डिग्री प्राप्त करने के लिए, उनके पिता ने उन्हें लंदन विश्वविद्यालय में नामांकित किया। लेकिन वह 1880 में बिना डिग्री के लौट आए, क्योंकि उन्हें बैरिस्टर की पढ़ाई में कोई दिलचस्पी नहीं थी।

  • रवींद्रनाथ टैगोर की शादी

1883 में, रवींद्रनाथ टैगोर ने मृणालिनी बाई से शादी की।

  • रवींद्रनाथ टैगोर व्यवसाय

इंग्लैंड से भारत लौटने के बाद, उन्होंने शादी कर ली और कुछ साल सियाल में अपनी संपत्ति पर बिताए। उसने दूर-दूर तक फैली अपनी संपत्ति को नापा। ग्रामीण और गरीब लोगों के जीवन को करीब से देखा। 1891 से 1895 तक उन्होंने ग्रामीण बंगाल की पृष्ठभूमि पर आधारित कई लघु कथाएँ लिखीं।

 

वर्ष 1901 में रवींद्रनाथ टैगोर शांतिनिकेतन गए। यहां उन्होंने एक पुस्तकालय, एक स्कूल और पूजा स्थल का निर्माण किया। उन्होंने यहां कई पेड़ लगाए और एक सुंदर बगीचा बनाया। कुछ दिनों बाद उनकी पत्नी और बच्चों की मृत्यु हो गई। 1905 में उनके पिता की मृत्यु हो गई।

1913 में, टैगोर साहित्य में नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले गैर-यूरोपीय और थियोडोर रूजवेल्ट के बाद दूसरे गैर-यूरोपीय बन गए। रवींद्रनाथ टैगोर के ये पुरस्कार उनके कविता-संग्रह गीतांजलि के लिए मिला था

रवींद्रनाथ टैगोर को साहित्य के क्षेत्र में उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए 1913 में, नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। टैगोर साहित्य में नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले गैर-यूरोपीय और थियोडोर रूजवेल्ट के बाद दूसरे गैर-यूरोपीय बन गए। रवींद्रनाथ टैगोर के ये पुरस्कार उनके कविता-संग्रह गीतांजलि के लिए मिला था।

उनके कुछ अनुवादों और गीतांजलि के आधार पर उन्हें स्वीडिश अकादमी द्वारा नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। 1915 में ब्रिटिश सरकार ने उन्हें ‘नाइट हूड’ की उपाधि भी दी। लेकिन जलियांवाला बाग हत्याकांड के बाद उन्होंने यह उपाधि लौटा दी।

साहित्य में रवींद्रनाथ टैगोर का काम
रवीन्द्रनाथ टैगोर जन्म से ही बुद्धिमान थे। एक महान कवि, साहित्यकार, लेखक, चित्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता थे। कहा जाता है कि उन्होंने अपनी पहली कविता बचपन में लिखी थी। वह केवल 8 वर्ष के थे जब उन्होंने पहली कविता लिखी थी। १८७७ में 16 वर्ष की आयु में उन्होंने एक लघुकथा लिखी। रवींद्रनाथ टैगोर ने लगभग 2230 गीत लिखे। वह एक साहित्यकार थे जिन्होंने भारतीय संस्कृति और विशेष रूप से बंगाली संस्कृति में विशेष योगदान दिया।

रवींद्रनाथ टैगोर की मृत्यु

टैगोर ने अपने जीवन के अंतिम 4 वर्ष लंबी बीमारी और दुख में बिताए। 1937 के अंत तक उनकी हालत और खराब हो गई। लेकिन वे बच गए। करीब तीन साल बाद ऐसी ही स्थिति पैदा हुई। इसके बाद जब भी उनकी हालत में सुधार होता तो वे कविताएं लिखते थे। इस दौरान उन्होंने एक के बाद एक खूबसूरत कविताएं लिखीं। लंबी बीमारी के बाद 7 अगस्त 1941 को कोलकाता में उनका निधन हो गया।

  • रवींद्रनाथ टैगोर की उपलब्धता
    टैगोर को उनके जीवन में कई बार सम्मानित किया जा चुका है। इनमें से सबसे प्रमुख गीतांजलि के लिए उन्हें 1913 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।
  • रवींद्रनाथ टैगोर ने भारत और बांग्लादेश के लिए राष्ट्रगान लिखा था। आज भारत का राष्ट्रगान जन गण मन हर महत्वपूर्ण समय पर गाया जाता है। इस राष्ट्रगान के लेख में रवींद्रनाथ टैगोर हैं। इसके अलावा बांग्लादेश का राष्ट्रगान ‘अमर सोनार बांग्ला’ भी रवींद्रनाथ टैगोर ने लिखा है।
  • इसके अलावा रवींद्रनाथ टैगोर महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन से भी अपने जीवन में तीन बार मिले थे। वह रवींद्रनाथ टैगोर को ‘रब्बी टैगोर’ कहते थे।
  • तो दोस्तों ये था रवीन्द्रनाथ टैगोर का पूरा हिंदी  ज्ञान। हमें उम्मीद है कि यह सूचना आपके लिए उपयोगी होगी। रवींद्रनाथ टैगोर की हिंदी में जानकारी स्कूल निश्चित रूप से कॉलेज में छात्रों के ज्ञान को बढ़ाने में उपयोगी होगा। इस जानकारी को अपने अन्य दोस्तों के साथ साझा करना सुनिश्चित करें। धन्यवाद ..
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

href="https://www.thegoldenmart.com/classified">which is the best electric car in india 2021 on पेपर प्लेट बनाने का बिजनेस कैसे शुरु करें।